आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम में दूसरे दिन कवियों ने अपनी सारगर्भित रचनाओं से पंडित गोविन्द बल्लभ पंत को श्रद्धा सुमन अर्पित किये

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी:—(18दिसम्बर) संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली एवं सुधी फाउंडेशन के तत्वावधान में आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत सांस्कृतिक, नृत्य, गीत एवं कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया ।कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण कवि सम्मेलन में कवियों ने अपनी सशक्त रचनाओं से गोविन्द बल्लभ पंत व देशभक्ति पर अपनी सारगर्भित रचनाओं से पंडित गोविन्द बल्लभ पंत को श्रद्धा सुमन अर्पित किये।
उत्तराखंड वानिकी प्रशिक्षण केन्द्र, रामपुर रोड में आयोजित कार्यक्रम के दूसरे दिन का प्रारम्भ मुख्य अतिथि नवीनचन्द्र् वर्मा, सारस्वत अतिथि हेमंत भईयू व अन्य गणमान्य जनों के द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया । इसके उपरांत विभिन्न विद्यालयों के बच्चों द्वारा नृत्य, गायन की सुंदर प्रस्तुति देकर उपस्थित दर्शकों का मन मोह लिया । कार्यक्रम के द्वितीय सत्र में कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया ।जिसमें कवियों ने अपनी भावनाओं की प्रस्तुति की।माँ सरस्वती की वंदना के पश्चात बरेली से पधारे रोहित राकेश ने कहा–
कभी न हिले वो बुनियाद चाहिये,
वतन हमेशा आबाद चाहिये ।।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये वरिष्ठ कवि अशोक वार्ष्णेय ने पंडित गोविन्द बल्लभ पंत के प्रति कहा–
देवभूमि में जन्मे फिर से जी बी पंत जैसा लाल ।
खटीमा से आये रामरतन यादव ने अपनी रचना में कहा –
ड्रैगन की चाल न अब चलने देंगे,
भूले से उसकी दाल न गलने देंगे ।।
इसी क्रम में मंजू पांडे उदिता, बीना भट्ट बडशीलिया, प्रियंका जोशी, हरीश करन उप्रेती, कन्हैया लाल, विपिन चन्द्र पांडे ने भी काव्य पाठ किया ।
कार्यक्रम के अंतिम सोपान में सुधी संस्था के अध्यक्ष डाक्टर हंसादत भट्ट ने जानकारी देते हुए बताया कि कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य आजादी के सिपाही पंडित गोविन्द बल्लभ पंत के द्वारा स्वतंत्रता संग्राम व सशक्त राजनीति में उनके अहम योगदान की जानकारी को अमृत महोत्सव के माध्यम से जन-जन तक पहुंचा कर राष्ट्र भावना को सुदृढ़ करना है। इसी के साथ उन्होंने राज्य सरकार उत्तराखंड से आशा की राज्य सरकार, संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के साथ मिलकर उत्तराखंड में अमृत महोत्सव जैसे कार्यक्रमों के आयोजन की पहल करे।
तदोपरान्त डाक्टर हंसादत भट्ट ने सभी आगंतुकों तथा अजय भट्ट, रक्षा राज्य मंत्री, भारत सरकार का आभार व्यक्त किया।सभी कलाकारों व कवियों को शाल व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया । फाउण्डेशन की तरफ से दून विश्वविद्यालय से पधारे डा. हरीश चन्द्र अण्डोला को शशांक सिंह रावत, अध्यक्ष भारतीय जनता युवा मोर्चा, उत्तराखण्ड के द्वारा सम्मानित किया गया ।
इस अवसर पर नितेश्वर आनन्द ,आई पी एस, इन्द्र सिंह नेगी, चेयरमैन मिशन ओपीडी पेनइंडिया, डाक्टर सचिन रस्तोगी, सुबोध सिंह, डाक्टर आंचल अहेरी, अमित शर्मा, कृष्ण चन्द्र जोशी,डाक्टर सुषमा जोशी, ज्योत्सना शर्मा, गोपाल विष्ट, प्रदीप बेलवाल सहित अनेक गणमान्य उपस्थित रहे ।दो दिवसीय कार्यक्रम का संचालन डाक्टर प्रदीप उपाध्याय, रूपेन्द्र नागर, रोहित राकेश ने किया ।

यह भी पढ़ें 👉  चुनाव ड्यूटी से लौट रहा टीचर सड़क हादसे का शिकार, अज्ञात वाहन की टक्कर से मौत