ग्राम पंचायतों को आर्थिक एवं सामाजिक न्याय पर सशक्त बनाने के लिए प्रशिक्षण दिया गया

ख़बर शेयर करें -

पिथौरागढ़: जिले के विकास खंड कनालीछीना, मूनाकोट तथा पिथौरागढ़ में आयोजित दो दिवसीय प्रशिक्षण में ग्राम पंचायतों को सतत् विकास लक्ष्यों के नौ थीम के आधार पर ग्राम पंचायतों में योजनाएं बनाने की अपील की गई। प्रशिक्षण में ग्राम पंचायतों को आर्थिक एवं सामाजिक न्याय पर सशक्त बनाने के लिए कार्ययोजना तैयार करने के गुर सिखाए गए।
निदेशालय पंचायतीराज उत्तराखंड द्वारा आयोजित दो दिवसीय प्रशिक्षण में अधिकृत संस्था सोसायटी फॉर एक्सन इन हिमालया पिथौरागढ़ के मास्टर ट्रेनर्सो ने बताया कि दुनिया के 193 देशों ने 2015 में वैश्विक स्तर पर बैठकर सतत् विकास लक्ष्यों के 17 गोल तय किया था।
उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासंघ ने 2030 तक इन लक्ष्यों को धरातल पर उतारने के साथ एक परफेक्ट व्यवस्था देने की बात कही है।
उन्होंने कहा कि हमें अपनी पंचायतों का बजट भी नौ लक्ष्यों के आधार पर बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में पंचायतों को इसी थीम के आधार पर कार्य करना है। इसके लिए सभी को प्रयास करना होगा। उन्होंने कहा कि रेखीय विभागों को भी अब पंचायतों में बैठकर कार्य करना होगा। वहीं पर बैठकर लक्ष्य आधारित योजनाएं बनानी होगी।
पिथौरागढ़ विकास खंड में क्षेत्र प्रमुख लक्ष्मी गोस्वामी, कनालीछीना में क्षेत्र प्रमुख सुनीता कन्याल, मूनाकोट में खंड विकास अधिकारी आशा मेहता ने दीप प्रज्वलित कर प्रशिक्षणों का उद्घाटन किया।
उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण से ही हमारी कार्य करने की संस्कृति में बदलाव आता है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में पंचायतों को नये स्वरूप में अपने को लाना होगा।
तीनों प्रशिक्षणो में पिथौरागढ़ ब्लाक में खंड विकास अधिकारी नरेंद्र सिंह पोखरिया, एडीओ पंचायत हुक्म सिंह, ग्राम पंचायत विकास अधिकारी दीपक कुमार, कनालीछीना में खंड विकास अधिकारी जगदीश प्रसाद, एडीओ पंचायत योगेश कुमार पांडेय, मूनाकोट में एसडीओ पंचायत सोहन लाल वर्मा, ग्राम पंचायत विकास अधिकारी मनोज धामी तथा कनालीछीना में खंड विकास अधिकारी जगदीश प्रसाद, एडीओ पंचायत योगेश पांडे आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें 👉  बीर शिवा स्कूल चौखुटिया में पुलिस ने विद्यार्थियों को किया साइबर क्राइम के प्रति जागरूक